Wednesday, April 14, 2021
Home ख़बरें तेनुआही चौक पर अतिक्रमण खाली कराने पहुंचे सीओ को विरोध का सामना...

तेनुआही चौक पर अतिक्रमण खाली कराने पहुंचे सीओ को विरोध का सामना करना पड़ा, आश्वासन के बाद हुआ काम

एनएच पूर्व के 104 (227) जो एक महत्वपूर्ण मार्ग है उसका निर्माण कार्य अतिक्रमण के कारण कार्य बाधित हो रहा है। निर्माण में आने वाली बाधा दूर करने के निर्देश के बाद मंगलवार को लदनियां सीओ निशीथ नंनद के नेतृत्व में मुख्य सड़क एनएच 104 पर तेनुआही चौक स्थित सड़क किनारे अतिक्रमण को हटाने का कार्य प्रारंभ कर दिया। जहां उन्हें घंटों भर लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। कारण कि 10 भूस्वामियों का जहां मुआवजा से वंचित रहना पड़ा है वहीं चार भूस्वामियों का भी कुछ राशि नहीं मिला है।

सड़क का निर्माण कार्य कराने में समस्या

यही कारण है कि इन सभी भूस्वामियों के द्वारा किया गया विरोध का सामना सीओ को करना पड़ा है। बताते चले कि इस सड़क का चौड़ीकरण और विस्तारीकरण का कार्य बीएससीपीएल द्वारा किया जाना है। अतिक्रमण की वजह से एचपीसीएल को उपरोक्त सड़क का निर्माण कार्य कराने में समस्या आ रही है। चुंकि सड़क के अतिक्रमणमुक्त होने पर ही सड़क का चौड़ीकरण और विस्तारीकरण संभव हो पाएगा। मालूम हो कि तेनुआही चौक पर दुकानदारों द्वारा अपनी-अपनी दुकानों के सामने एनएच 104 को अतिक्रमित कर लिया था।

बीएससीपीएल द्वारा सड़क चौड़ीकरण,विस्तारीकरण का कार्य किया जाना है

हालांकि अंचल प्रशासन द्वारा पूर्व में कई बार अतिक्रमण खाली कराने के लिए सूचना दी गई लेकिन भूस्वामियों का मुआवजा अभीतक नहीं मिलने के कारण दुकानदारों ने अतिक्रमण खाली करने की बात को गंभीरता से नहीं लिया। इस बाबत लदनियां के सीओ निशीथ नंदन ने बताया कि पूर्व में ही बीएससीपीएल एनएच निर्माण कंपनी के द्वारा इस मुख्य सड़क को खाली करवाने की दिशा में डीएम को लिखा गया था। जिनके निर्देशानुसार एसडीओ जयनगर व एसडीपीओ के संजुक्त आदेशानुसार पुलिस बल के साथ अतिक्रमण खाली कराया जाना था।

आश्वासन के बाद अतिक्रमण खाली कराया गया

जहां स्थानीय थाना के अलावे पहुंची अन्य पुलिस बल के साथ तेनुआही चौक पर घंटों मशक्कत करने के बाद लोगों के कथनानुसार डीएम और भूअर्जन पदाधिकारी से की गई बात के उपरांत सभी बंचित लोगों को मुआवजा दिए जाने की मिला आश्वासन के बाद अतिक्रमण खाली कराया गया। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि खाली कराएं गए अतिक्रमण में लगभग एक 30 दुकान के साथ अस्थाई आवास को भी हटाया गया है। उन्होंने कहा कि निजी कुछ ऐसे जमीन को भी खाली कराया गया जिसे मुआवजा राशि विभाग से दिया जा चुका है।

Source : Dainik Bhaskar

Most Popular

Recent Comments