Sunday, October 17, 2021
Home ख़बरें थर्मल स्क्रीनिंग की नहीं की गई व्यवस्था दोनों देश के लोग पार...

थर्मल स्क्रीनिंग की नहीं की गई व्यवस्था दोनों देश के लोग पार कर रहे हैं बॉर्डर

कोरोना के प्रथम लहर के अपेक्षा दूसरा लहर खतरनाक व जानलेवा साबित हो रहा है। बावजूद इस बार बॉर्डर पर प्रशासन ने थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था नहीं की है। पिछले साल बेकाबू स्थिति नहीं थी, लेकिन प्रशासन के द्वारा सतर्कता बरतने की प्रयास की जा रही थी। जबकि विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर म्युटेन वायरस के चलते सुनामी का रूप ले लिया है। बावजूद प्रशासन इसे गंभीरता से नहीं ले रहे है। जिसका घातक परिणाम निकल सकता है।

नेपाल में बिना मास्क के घर से बाहर निकलना सख्त मना

सुरक्षा की ख्याल से बॉर्डर पर एसएसवी तैनात है। कोरोना महामारी काल में भी दोनों देशों के नागरिकों का आना जाना जारी है। पूरी खुली बॉर्डर पर कही भी प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के द्वारा थर्मल स्क्रीनिंग या कोरोना जांच की व्यवस्था नहीं की गई है। लोग बेरोक आते जाते है। इससे संक्रमण फैलने की आशंका जताई जा रही है।एसएसबी ने जिलाधिकारी को बॉर्डर पर थर्मल स्क्रीनिंग व कोरोना जांच से संबंधित एसएसबी ने मामले को लेकर लिखा डीएम को पत्र, स्थिति से कराया अवगत सुविधाएं उपलब्ध करवाने को लेकर पत्र लिखे है।

एसएसवी 48वीं बटालियन के कार्यवाहक कमांडेन्ट शंकर सिंह ने डीएम अमित कुमार को पत्र लिखकर बॉर्डर पर थर्मल स्क्रीनिंग व कोरोना जांच से संबंधित व्यवस्था बहाल करने की बात कही है। ताकि बॉर्डर पार करने वाले संक्रमित व्यक्ति को रोका जा सके। संक्रमित व्यक्ति की पहचान होते ही उन्हें कोविड केयर सेंटर या होम आइसोलेट किया जा सके। नेपाली अधिकारिक सूत्रों के अनुसार बॉर्डर से सटे नेपाली क्षेत्रों में भी कोरोना पॉजिटिव कई मामले है। नेपाल में बिना मास्क के घर से बाहर निकलना सख्त मना है।

बॉर्डर पर अलर्ट मोड में है एसएसबी

कोरोना के प्रथम लहर के साथ ही यानी करीब 14 महीने से बॉर्डर सील है। लेकिन

कुछ माह पूर्व से दोनों देशों के लोगों का आना जाना जारी है। बड़ी वाहनों पर रोक लगी है। जयनगर बाजार, देवधा, लदनिया, बासोपट्टी, उमगांव, पोदमा समेत अन्य सीमावर्ती शहरों में नेपाली नागरिकों को खरीदारी करते देखा जा रहा है। कोरोना के दूसरी म्युटेन वायरस को लेकर बॉर्डर पर तैनात एसएसबी पूरी तरह से अलर्ट है। बॉर्डर पर हर गति विधियों पर पैनी नजर बनाए हुए है। बॉर्डर खुली होने के वजह से दोनों देशों के लोग खेतों के रास्ते से भी एक दूसरे के देश में चले जाते है। एसडीएम बेबी कुमारी ने बताया की इस बाबत वरीय अधिकारियों से बात करेंगे। वहीं एसएसबी कार्यवाहक कमांडेंट शंकर सिंह ने बताया की कोरोना की दूसरी तेज लहर को देखते हुए बॉर्डर पर थर्मल स्क्रीनिंग या कोरोना जांच से संबंधित व्यवस्था बहाल करने को लेकर मधुबनी डीएम को पत्र लिखा गया है।

सुनील कुमार की खबर

Most Popular

Recent Comments