Thursday, June 17, 2021
Home ख़बरें देवधा में 3 दिनों में 8 लोगों की हुई मौत, मरने वाले...

देवधा में 3 दिनों में 8 लोगों की हुई मौत, मरने वाले सभी लोग सर्दी और बुखार से पीड़ित थे

जयनगर के देवधा में पिछले 72 घंटे में 8 लोगों की मौत से ग्रामीण सकते में है। देवधा उत्तरी पंचायत के सरपंच सुजीत साह बताते हैं कि विक्रम ठाकुर, जामुन पंजियार, मुखिया की भाभी, पूर्व सैनिक लक्ष्मेश्वर ठाकुर समेत आठ लोगों की मौत विगत तीन में हो गई है। इन सभी कोरोना का लक्षण देखा गया था। ये सभी सदी, खांसी और बुखार से पीड़ित थे। वालों में सभी की उम्र 50 से ज्यादा थी। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को इस दिशा में ठोस कदम उठानी चाहिए। उप स्वास्थ्य केंद्र 24 घंटे चालू रहना चाहिए। मुखिया योगेंद्र पूर्व ने भी बताया कि 50 वर्ष से ऊपर वाले 8 व्यक्तियों की मौत पिछले 72 घंटे में हो गई इन सभी कोरोना का लक्षण देखा गया था। उन्होंने कहा कि प्रशासन को गांव में कैंप लगाकर लोगों की कोरोना जांच करवानी चाहिए। कोरोना की दूसरी लहर में है। जयनगर में कोरोना से एक और व्यि जारी मौत हो गई है। कोरोना से संक्रमित होने वाले गुरुद्वरा के ग्रन्थी साहब ज्ञानी सतनाम (47) की मौत सातवें दिन हार्ट अटैक से हो गई। पंजाबी समुदाय के लोगों ने ज्ञानी सतनाम का अंतिम संस्कार गुरुवार को मुक्ति धाम में कर दिया। पंजाबी समाज के लोग ग्रंथी साहब के गुजर जाने से आहत हैं

जांच में रिपोर्ट निगेटिव आ रही, लेकिन हार्ट अटैक से हो गई मौत

करीब एक सप्ताह पूर्व अचानक ज्ञानी सतनाम का ऑक्सीजन लैवल घटकर 59 तक पहुंच गया जिसके कारण उन्हें सांस लेने में दिक्कत आने लगी थी। परिजनों ने उन्हें सकरी स्थित रामशिला अस्पताल में भर्ती करवाया था। जांच रिपोर्ट आने के बाद पता चला कि ज्ञानी सतनाम का फेफड़ा 24 घंटे में वायरस की वजह से करीब 70 फीसदी संक्रमित हो चुका है। इलाज कर रहे डॉक्टर जितेन्द्र ठाकुर ने बताया था कि ये कोरोना का नया लक्षण है जिसमें मरीज निमोनिया से प्रभावित हो जाता है। अस्पताल में भर्ती करवाने से पहले दो-दो बार कराई गई थी लेकिन दोनों जांच रिपोर्ट निगेटिव आईं थी। बॉर्डर क्षेत्रों में इस प्रकार के कुछ मामले प्रकाश में आए हैं जिसमें संक्रमित होने के छठवें या सातवें दिन हार्ट अटैक से मरीज की मौत हो गई हैं।
अस्पताल प्रबंधक ने कहा- हर आदमी की जांच कराई जाएगी

कुछ दिन पूर्व शहर के खरगा गली स्थित एक दवा दुकानदार की भी मौत कोरोन कारण हो गया था। कोरोना के नए-नए लक्षण सामने आने से में हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार कोविड-19 का इंफेक्शन बॉडी में इंफ्लेमेशन को टिगर करता है जिससे दिल की मांसपेशियों कमजोर पड़ने लगती हैं। इससे धड़कन की गति प्रभावित होती है और ब्लड क्लॉटिंग की समस्या असामान्य रूप से उत्पन्न होने लगती है। वहीं, इतने बावजूद दूसरी ओर कोरोना से मरने वाले लोगों का खुलेआम अंतिम संस्कार कर दिया जा रहा है जहां नियमों की धज्जियां ही नहीं उड़ रही होती है बल्कि शहरी व ग्रामीण इलाके में संक्रमण के तेजी से फैलने की संभावना बनी रहती है। वहीं दूसरी ओर पास के पंचायत में घंटे में आठ-आठ लोगों की मौत हो जाती है। इन सभी में कोरोना का लक्षण दिखा गया लेकिन प्रशासन को जानकारी तक नहीं है। बीडीओ चंद्रकांता ने बताया कि उक्त घटना की जानकारी नहीं है। घटना की जानकारी लेने के बाद अगला कदम उठाया जाएगा। अस्पताल प्रबंधक अर्चना भट्ट ने बताया कि मामले की जांच करने के बाद गांव के एक-एक व्यक्ति का कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा।
प्रशासन लापरवाह

बीडीओ ने कहा- इस मामले के बारे में कोई जानकारी नहीं है, जांच की भी नहीं है कोई व्यवस्था

सुनील कुमार की खबर

Most Popular

Recent Comments