Friday, January 22, 2021
Home ख़बरें नेपाली संसद भंग करने के खिलाफ बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में आंदोलन...

नेपाली संसद भंग करने के खिलाफ बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में आंदोलन शुरू, पीएम केपी ओली पर तानाशाही का आरोप

नेपाली संसद भंग करने के खिलाफ सीमावर्ती क्षेत्रों में आंदोलन शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री के.पी. ओली के पक्ष-विपक्ष में गोलबंदी शुरू हो गई है। उत्तर बिहार की सीमा से सटे नेपाली जिला मुख्यालयों में सोमवार को लगातार दूसरे दिन जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया गया। पूर्वी चंपारण के रक्सौल से सटे वीरगंज शहर, सीतामढ़ी से सटे रौतहट के मुख्यालय गौर और मोरंग जिला के मुख्यालय विराटनगर में संसद भंग करने के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। आंदोलनकारी यह जानने के लिए उत्सुक रहे कि काठमांडू में अलग-अलग दलों की बैठकों में आगे किस तरह की रणनीति अपनाई जाती है। प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली द्वारा संसद भंग करने की सिफारिश के बाद उनकी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में फूट पड़ गई है। कार्यकारी अध्यक्ष पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड और एकीकृत माओवादी-लेनीनवादी से आए पूर्व प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल का खेमा संसद भंग करने के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन शुरू कर चुका है।

नेकपा प्रचंड गुट के नेता नागेंद्र ठाकुर और संतोष कुमार के नेतृत्व में सोमवार की शाम वीरगंज के घंटाघर चौक पर प्रदर्शन किया गया। इससे पहले गौर के बीपी चौक पर नेकपा नेताओं ने संसद को बहाल करने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री के.पी. ओली पर तानाशाही का आरोप लगाया। पार्टी के युवा संघ के जिला सचिवालय सदस्य बिट्टू सिंह ब्रजेश ने बताया कि बुधवार को सभी जिलों में बड़े प्रदर्शन की तैयारी चल रही है। विराटनगर में नेकपा द्वारा निकाला गया जुलूस ट्रैफिक कार्यालय चौक पर पहुंचकर नुक्कड़ सभा में बदल गया। सभा को प्रदेश सांसद कुशल लिंबू, नगर प्रभारी भोगेंद्र यादव एवं नेकपा के छात्र संघ के केंद्रीय सचिव वसीम हालम ने संबोधित किया।

कलैया में पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प
पूर्वी चंपारण के आदापुर से सटे बारा जिला के मुख्यालय कलैया में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई, जिसमें तीन लोग घायल हो गए। प्रधानमंत्री द्वारा संसद भंग करने के खिलाफ दूसरे दिन भी सुबह 8 बजे भरत चौक पर धरना दिया गया। नेपाल छात्र संघ बारा के अध्यक्ष राकेश पांडेय के नेतृत्व में छात्र संघ के निवर्तमान केंद्रीय महासचिव राजेश रौनियार सहित सैकड़ों नेताओं और कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया। प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाया। पुलिस द्वारा रोके जाने पर झड़प हो गई। झड़प में राजेश रौनियार, विनयराज शर्मा और यशु मिश्रा घायल हो गए। तीनों का कलैया अस्पताल में इलाज चल रहा है।

Most Popular

Recent Comments