Monday, May 17, 2021
Home ख़बरें बिहारः सभी स्कूल-कॉलेज और धार्मिक स्थल बंद, निजी ऑफिस में हो 35...

बिहारः सभी स्कूल-कॉलेज और धार्मिक स्थल बंद, निजी ऑफिस में हो 35 फीसदी उपस्थिति

बिहार में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राज्य सरकार ने सभी स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थान को बंद करने का फैसला लिया है. यही नहीं राज्य के सभी धार्मिक स्थल भी 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे.

18 अप्रैल तक के लिए बंद

बिहार में भी कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं. बढ़ते मामलों के बीच महामारी पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार ने सभी स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थान को बंद करने का फैसला लिया है. यही नहीं राज्य के सभी धार्मिक स्थल 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे. हालांकि होटल और रेस्टोरेंट पर किसी तरह की पाबंदी नहीं लगाई गई है. बिहार आपदा प्रबंधन की ओर से जारी आदेश के मुताबिक कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य के सभी स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थान को 18 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया गया है. साथ ही सभी धार्मिक स्थल भी 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे.साथ ही राज्य में प्राइवेट ऑफिस में 35 प्रतिशत उपस्थिति का आदेश दिया गया है. यह भी कहा गया है कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट में क्षमता के 50 प्रतिशत ही होंगे.

दुकान शाम 7 बजे बंद होंगे

बिहार आपदा प्रबंधन के मुताबिक 30 अप्रैल तक राज्य के सभी दुकान और प्रतिष्ठान शाम 7 बजे तक खुलेंगे. हालांकि इसमें होटल और रेस्टोरेंट को शामिल नहीं किया गया है. इस तरह से राज्य में अभी नाइट कर्फ्यू या लॉकडाउन लगाने को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है.प्रबंधन के प्रिंसिपल सेक्रेटरी प्रत्यय अमृत ने बताया कि सभी दुकानों को शाम 7 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई है. रेस्टोरेंट, ढाबा और होटल को छूट हैं और 25% बैठने की क्षमता पर काम कर सकते हैं. जबकि सिनेमा हॉल में भी क्षमता के 50 फीसदी लोग ही आ सकते हैं. आवश्यक सेवाओं को इससे छूट दी गई है.

आज ही 17 पॉजिटिव केस एक ट्रेन

इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में कोरोना के बढ़ती रफ्तार पर चिंता जाहिर की. उन्होंने कहा कि बीच में राज्य में कोरोना टेस्ट कम हो गया था अब अब फिर से बाध्य जा रहा है. अभी टेस्टिंग के लिए 1 लाख का लक्ष्य रखा गया है.मुख्यमंत्री नीतीश ने कहा कि राजधानी पटना में भी तेजी से केस बढ़ रहा है. जो लोग बाहर से आ रहे हैं उनकी जांच की जा रही है और उनके रहने की व्यवस्था भी हो रही है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र से जो लोग ट्रेन से आए हैं उनकी जांच हो रही है. आज ही 17 पॉजिटिव केस एक ट्रेन में पाया गया. उन्होंने कहा कि एक बात स्पष्ट है कि हमारा जोर एक ओर टेस्टिंग पर है और दूसरी तरफ टीकाकरण पर भी जोर रहेगा. टीकाकरण बहुत जरूरी है.

Most Popular

Recent Comments