Wednesday, April 14, 2021
Home ख़बरें मधुबनी जिले में छह दिनों में मिले 13 कोरोना संक्रमित

मधुबनी जिले में छह दिनों में मिले 13 कोरोना संक्रमित

मधुबनी जिले में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। बीते एक सप्ताह में 13 लोगों को कोरोना हुआ है। इसमें दो लोगों को कोविड केयर सेंटर रामपट्टी में भर्ती कराया गया है वहीं 11 लोगों को होम क्वारंटाइन में रखा गया है।

मधुबनी जिला प्रशासन द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में बासोपट्टी के नरकटिया, बेनीपट्टी के अरेर, खजौली के ठाहर, पंडौल के शाहपुर, रहिका के मधुबनी शहर में तीन और लहेरियागंज में एक और एक डुमरी में संक्रमित को चिह्नित किया गया है। वहीं राजनगर के केवान, राघोपुर, रांटी और राजनगर मुख्यालय में एक संक्रमित की पहचान की गयी है। अबतक कुल 13 लोगों को पहचान की गयी है।

कब-कब मिले मरीज:

जिले में 18 मार्च को तीन पॉजिटिव मिले हैं। वहीं 17 मार्च को 2 पॉजिटिव मिले। 12 से 13 मार्च के बीच 8 एक्टिव मरीज मिले हैं। इसतरह से 12 मार्च से लेकर 18 मार्च के बीच कुल 13 संक्रमितों की पहचान की गयी। संक्रमितों के मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग एलर्ट मोड पर है। आईडीएसपी के पदाधिकारी अनिल चक्रवर्ती ने बताया कि बीते दो दिनों में कोरोना के पांच एक्टिव मरीज मिले हैं। इस सप्ताह कुल 13 मरीज कोरोना के पाए गए हैं। ऐसे में स्वास्थ्य महकमा पूरी एक्टिव मोड में गाइडलाइन के मुताबिक काम कर रहे हैं। डीएम मधुबनी अमित कुमार ने कहा कि जहां भी संक्रमित मरीज मिल रहे हैं उस क्षेत्र को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। एसडीएम और एसडीपीओ माइक्रो कंटेनमेंट जोन में स्वास्थ्य विभाग के प्रोटकॉल को लागू कराएंगे। प्रखंड क्षेत्र में बीडीओ को यह जिम्मेदारी दी गयी है।

उल्लंघन करते पाए जाएंगे उनपर आपदा एक्ट

डीएम ने स्पष्ट कहा है कि जो लोग इसका उल्लंघन करते पाए जाएंगे उनपर आपदा एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। सदर एसडीएम अभिषेक रंजन ने बताया कि सदर अनुमंडल में राजनगर, रहिका, पंडौल और खजौली में माइक्रो कंटेनमेंट जोन है शुक्रवार सुबह तक सभी स्थानों बांस से घेरने के आदेश दिए गए हैं। माइक्रो कंटेनमेंट जोन के जो भी नीयम हैं उसका सख्ती से पालन किया जाएगा। मधुबनी शहर में भी मामले सामने आए हैं। उन जगहों पर माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा।

होगा सेनेटाइजेशन: माइक्रो कंटेनमेंट जो के पूरे क्षेत्र को सेनेटाइज तथा संक्रमण मुक्त किए जाने की आवश्यकता है। सेनेटाइजेशन का कार्य संबंधित क्षेत्र के बीडीओ और प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी कराएंगे।

Most Popular

Recent Comments