Saturday, January 16, 2021
Home ख़बरें सीमावर्ती इलाकों में शराब तस्करी का धंधा जोरों पर

सीमावर्ती इलाकों में शराब तस्करी का धंधा जोरों पर

जयनगर अनुमंडल मुख्यालय समेत पूरे सीमावर्ती इलाकों में इन दिनों शराब तस्करी का धंधा परवान चढ़ा है। शादी विवाह के शुभ मुहूर्त में शराब की बढ़ी मांग ने शराब तस्करों की पौ बारह कर रखी है। सीमावर्ती इलाके के हर गांव में लग्न के कारण शराब की डिमांड बढ़ गई है, जिस कारण तस्करी का धंधा भी जोरों पर है। आप किसी भी शादी समारोह में शिरकत करने जाएंगे, तो शराब के नशे में झूमते दर्जनों युवा मिल जाएंगे।

शराब तस्करों पर नकेल कसने के लिए पुलिस प्रशासन के मुस्तैदी के बावजूद तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रहा है। शराब कारोबारी व शौकीन तू डाल डाल मैं पात पात वाली कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं। भारत-नेपाल की खुली सीमा के कारण शराब तस्करों ने ऐसे दर्जनों रास्ते बना लिए है, जहां पुलिस पहुंच ही नहीं पाती।

एक रास्ते पर पहुंच घेराबंदी करती, तो दूसरे रास्ते से शराब लेकर तस्कर अपने गंतव्य तक पहुंच जाते। अहले सुबह और देर रात में शराब नेपाल से तस्करी कर लाई जाती है। अनुमंडल मुख्यालय में अन्य राज्यों से भी शराब मंगाने का गोरखधंधा किया जा रहा है। कई सिडिकेट काम कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार बड़े वाहन से दूसरे राज्यों से शराब की खेप देर रात मंगाई जाती है। शराब तस्कर के सिडिकेट के सदस्यों को पुलिस प्रशासन की हर गतिविधि की जानकारी पहले से होती है, जिस कारण वे पकड़ में नहीं आते हैं। शहर से लेकर गांव तक सिडिकेट के सदस्य होम डिलेवरी कर मोटी कमाई कर रहे हैं। भारत-नेपाल सीमा के बेतौंहा, अकौनहा, देवधा, अराहा, गाढ़ा, हीनाथपुर, बल्डीहा समेत अन्य गांव के रास्ते शराब की तस्करी के धंधे को अंजाम दे रहे हैं। जल्द दबोचे जाएंगे शराब कारोबारी : एएसपी

एएसपी शौर्य सुमन ने बताया कि शराब तस्करों पर नकेल कसने के लिए पुलिस प्रशासन सतत प्रयत्नशील है। हालांकि, उन्होंने और अधिक प्रयास की जरूरत पर बल दिया। कहा कि शराब तस्करों के बड़े सिडिकेट को चिन्हित करने की कवायद जारी है, शीघ्र ही दबोचे जाएंगे। शराब तस्करी में पकड़ाए तस्कर जेल से छूटने के बाद दोबारा तस्करी में लिप्त हो जाते हैं। ऐसे तस्करों पर नकेल कसने के लिए भी पुलिस मुस्तैदी से काम कर रही है।

Source : Jagran

Most Popular

Recent Comments