Wednesday, January 27, 2021
Home ख़बरें अन्तर्राष्टीय सीमा (भारत -नेपाल) पर खुले आसमान तले इतने सुरंग है कि...

अन्तर्राष्टीय सीमा (भारत -नेपाल) पर खुले आसमान तले इतने सुरंग है कि कडी़ चौकसी के बाबजूद यहां सब कुछ संभव बना हुआ है।

भारत-नेपाल अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर जेल मे सुरंग के स्टाइल मे व्यापक पैमाने पर प्याज-शराब आदि की तस्करी हो रही है।कहने को तो दोनो देशो की सुरक्षा इंतजाम ऐसे है मानो यहां परिन्दा भी पंख न हिला सके।लेकिन अन्तर्राष्टीय सीमा पर खुले आसमान तले इतने सुरंग है कि कडी़ चौकसी के बाबजूद यहां सब कुछ संभव बना हुआ है।


उल्लेखनीय है कि कोविड19 को लेकर जारी प्रतिबंधो के कारण अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर बीते मार्च महीने से ही आवागमन की सुविधा प्रतिबंधित बना हुआ है।अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित बीओपी(बोर्डर आउट पोस्ट)पर बैरियर बंद है।यहां से विशेष परिस्थिति को छोड़कर किसी को भी आने जाने कि अनुमति नही है।भारत की ओर से एस एस बी जबकी नेपाल की ओर से एपीएफ के जवान 24 धंटे मुस्तैद रहते है।दोनो देशो के बीच कायम प्रगाढ़ मैत्री व रोटी-बेटी के सम्बंध के वावजूद प्रतिबंधो के कारण आवाजाही पूरी तरीके से ठप्प है। लेकिन तस्करी पर यह प्रतिबंध पुरी तरीके से बेअसर साबित हो रहा है।राज्य मे शराब पर लगाये गये प्रतिबंध के बाद नेपाल से भारतीय इलाके मे तस्करी के जरिये शराब आपूर्ति का जो सिलसिला शुरु हुआ वह तमाम प्रशासनिक सख्ती के वावजूद न सिर्फ जारी है बल्की बीतते समय के साथ और मजबुत होता जा रहा है।देश मे पेट्रोल-डीजल की कीमतो मे बेतहासा वृद्धि के बाद उधर से इसकी भी तस्करी होने लगी है।ताजा मामला प्याज की तस्करी का है ।

जो भारत से नेपाल भेजा जा रहा है।इलाके के लोग फिलहाल प्याज की ऊंची कीमतो से परेशान है।उनको लगता है कि प्याज को तस्करी के जरिये नेपाल भेजे जाने के कारण इसकी कीमत कम नही हो रहा है।हलांकी यह बात पुरी तरीके से सही नही माना जा सकता है।स्थानीय थौक प्याज व्यवसायी बताते है कि ऊंची कीमत मे खरीददारी के कारण प्याज की कीमत कम नही हो रहा है।प्याज की तस्करी को वे व्यापार का स्वभाविक सिद्धान्त मानते है।कहते है कि व्यापार मे सभी मुनाफा कमाने के लिये पूंजी लगाते है।अब नेपाल मे प्याज कीमत बढ़ जाने से नेपाल के लोग प्याज खरीद रहे है तो इसमे खराबी क्या है।वाक इ मे इसमे कुछ भी खराबी नही है।लेकिन इसकी आड़ मे सुरक्षा इंतजामो को धत्ता बताकर चल रही प्याज तस्करी गैरकानुनी है।जानकार सूत्र ने बताया कि कतिपय व्यवसायी व्यापार के नाम पर खुलेआम तस्करी कर रहे है।ऐसे व्यवसायी पहले प्याज की खेप को अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के समीप बने गोदाम तक यह कहकर लाते है कि इसकी बिक्री भारतीय इलाके मे होना है।अन्तर्राष्ट्रीय सीमा के समीप बने गोदाम तक माल पहुंचने के बाद इसे नेपाल भेज दिया जाता है।मोटे मुनाफे वाले इस खेल मे बताया जाता है कि सीमा के समीप स्थित गोदाम से नेपाली नम्बर वाली ट्रको मे भरकर प्याज नेपाल भेजा जाता है।ज्ञातव्य हो की सीमा के समीप भारतीय भूभाग मे हाल के वर्षो मे व्यवसायिक गतिविधियां काफी तेज हुआ है।इन इलाको मे भारी मात्रा मे भंडारण की सुविधा उप्लब्ध है।दोनो देशो की सुरक्षा ऐजेन्सियो की उपस्थिति मे खुला खेल फरुखाबादी की तरह चल रहे इस खेल से इनकी साख पर बट्टा लग रहा है।जानकार सूत्र तस्करी के खेल मे सुरक्षा ऐजेन्सियो के उच्चाधिकारियो कि संलिप्तता का आरोप लगाते हुये कहते है कि हालत यह है कि जब भारतीय क्षेत्र मे स्थित गोदाम से नेपाली ट्रको मे प्याज चढा़या जाता है -इसमे धंटो लगते है।और इस दौरान सुरक्षा ऐजेन्सियो के जवान गायब रहते है।अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर हो हो रहे बेरोकटोक तस्करी को लेकर सुरक्षा ऐजेन्सियो का रटा रटाया जबाब यही रहता है की खुली सीमा मे इतने सुरंग(छोटे-बडे़ रास्ते)है कि यह नामुमकिन है।दावो के इतर तल्ख सच्चाई यह है कि अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर 4 से 5 किलोमीटर पर बीओपी स्थित है।बीओपी पर तैनात जवानो को नियमित तौर पर पैदल गश्ती करना है।सीमा पर लगातार हो रहे तस्करी से स्पष्ट है कि इसमे कोताही बरती जा रही है।यह मुनाफाखोर व्यवसायी व सुरक्षा एजेन्सी के कतिपय अधिकारियो के लिये भले फायदे का सौदा हो।अन्ततः देश को भारी नुकसान उठाना पर सकता है।

जयनगर सिटी के लिए मोहमद अली की खबर

Most Popular

Recent Comments